मतवाला झूठ पे बताओ क्या लिखूँ कविता,
जो है यथार्थ वास्तव में दीखता नही|
घंटों में चाहते थे मिनटों में बंट गए,
आँख सलामत है मगर दीखता नहीं...